आज का हैकिंग युग

इंटरनेट के इस्तेमाल से चीजें काफी आसान हो गई हैं। मगर इसी दौरान स्मार्टफोन हैकिंग के किस्से भी बढ़ते जा रहे हैं। किसी का भी फोन हैक किया जा सकता है। साइबर क्रिमनल लोगों के फोन हैक करके उनकी निजी जानकारी चोरी करते हैं।

इंटरनेट के इस्तेमाल से चीजें काफी आसान हो गई हैं। मगर इसी दौरान स्मार्टफोन हैकिंग के किस्से भी बढ़ते जा रहे हैं। किसी का भी फोन हैक किया जा सकता है। साइबर क्रिमनल लोगों के फोन हैक करके उनकी निजी जानकारी चोरी करते हैं।

अगर आपका फोन हैक हुआ है और आपको पता नहीं है तो हम आपको उन तरीकों की जानकारी दे रहे हैं जिनसे यह पता लगा सकते हैं कि आपका फोन हैक हुआ है या नहीं हुआ है। कई बार इन तरीकों से भी जानकारी नहीं मिलती है तो उनके लिए आपको किसी एक्सपर्ट के पास जाना चाहिए। किसी भी प्रकार के नुकसान से दूर रहने के लिए यूजर्स को इन जानकारी पर पूरा ध्यान देना चाहिए।

बैटरी खत्म होना:

अगर आपके स्मार्टफोन की बैटरी नॉर्मल से तेज खत्म हो रही है तो आपको इस पर ध्यान देना चाहिए। वैसे तो स्मार्टफोन की बैटरी समय के साथ-साथ कम होती है, लेकिन यह काफी नॉर्मल है। मगर यह तेजी से हुई है तो ऐसा होना सामान्य नहीं है। अगर आपके स्मार्टफोन की बैटरी लाइफ तेजी से गिर रही है तो शायद आपका फोन हैक हो गया है। कई बार मैलवेयर बैकग्राउंड में चल रहा होता है, जिससे बैटरी तेजी से खत्म होती है।

स्मार्टफोन का प्रदर्शन कमजोर होना:

अगर आपका स्मार्टफोन ठीक से प्रदर्शन नहीं कर रहा है। वेबपेज ठीक से लोड नहीं हो पा रहा है तो फोन की पुरानी स्पीड पाने के लिए दोबारा चालू करना चाहिए। स्मार्टफोन में काम कर रहे मैलवेयर सॉफ्टवेयर की वजह से भी दिक्कते आती हैं। सिस्टम का रिसोर्स उपयोग करके बैकग्राउंड में काम कर रही क्रिप्टोक्यूरेंसी छोटी हो सकती है।

पॉपअप:

कई बार सोशल मीडिया ट्विटर, फेसबुक और और गूगल की वेबसाइट्स पर ब्राउज करते हुए पॉपअप आ जाता है। ऐसे में मालवेयर पॉपअप यूजर्स को एंटीवायरस सॉफ्टवेयर या अन्य टूल्स इंस्टॉल के लिए कहते हैं। वेब ब्राउज करते समय अगर आप इस प्रकार के ऐड को देख रहे हैं तो आपका फोन एडवेयर से खराब हो सकता है।

ऐप्स ठीक से नहीं चल रहे:

 

अगर आपके स्मार्टफोन में लोकप्रिय ऐप्स जैसे कि वॉट्सऐप या इंस्टाग्राम हैंग हो जाते हैं या फिर ठीक से काम नहीं करते हैं। अगर ये ऐप्स बिना अनइंस्टॉल हुए ही फोन से चली जाती हैं तो ऐसे में यह संभव है कि मालवेयर सॉफ्टवेयर के चलते डिवाइस की स्टोरेज खत्म हो जाती है।

बैटरी लाइफ खत्म:

अगर आपके फोन की बैटरी चार्ज होने के बाद जल्दी खत्म हो जाती है। इसके अलावा आपके फोन का डाटा भी तेजी से खत्म हो जाता है तो ऐसे में आपको टेंशन लेने की जरूरत है। कई बार क्या होता है कि फोन को हैक कर लिया गया है। फोन हैक होने के चलते इस प्रकार की खराबियां आ जाती हैं।

फोन को हैक होने से कैसे बचाएं:

  • कभी भी अननोन सोर्स से कोई भी सॉफ्टवेयर इंस्टॉल नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपको पब्लिक वाई-फाई नेटवर्क इस्तेमाल करने का शौक है तो ऐसे में ध्यान देना चाहिए और नहीं करना चाहिए।
  • आपको अपने स्मार्टफोन में एंटी-मालवेयर सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करना चाहिए।
  • अपने स्मार्टफोन में निजी फाइल्स का बैकअप कर लीजिए और फैक्टरी रीसेट कीजिए।
  • आपको हमेशा अपने फोन पर नजर रखनी चाहिए और कुछ अनचाही एक्टिविटी होने पर सतर्क हो जाना चाहिए।

Leave a Comment